भक्तों का इंतजार खत्म, वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शुभ मुहूर्त में केदारनाथ धाम के कपाट खुले

0

केदारनाथ, 06 मई। बाबा केदारनाथ (Kedarnath Dham) के भक्तों का इंतजार अब खत्म हो गया है। शुक्रवार सुबह 6:25 बजे भगवान केदारनाथ धाम के कपाट वैदिक मंत्रोच्चार और विधि विधान के साथ, शुभ मुहूर्त में खोल दिए गए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर धामी एवं पर्यटन और संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज भी उपस्थित रहे। मंदिर के कपाट खुलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से प्रथम रुद्राभिषेक किया गया।

9 क्विंटल फूलों से सजाया गया मंदिर

Sponsored Ad

आपको बता दें केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) वर्ष में 6 महीनों के लिए ही खोला जाता है और बाकी के 6 महीनों के लिए मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं और अब श्रद्धालुओं का इंतजार खत्म हो गया है, श्रद्धालु अगले 6 महीनों तक अपने आराध्य के दर्शन और उनकी पूजा अर्चना कर सकेंगे। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर मंदिर को 9 क्विंटल फूलों से सजाया गया और इसी के साथ मराठा रेजीमेंट के बैंड द्वारा भक्ति भरे गीतों को बजाया गया।

इस आयोजन के दौरान 10000 श्रद्धालु इस कार्यक्रम के गवाह बने। श्रद्धालुओं में केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) के दर्शन पाने का गजब का उत्साह देखा गया। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के बाद चार तीर्थों के अंतिम मंदिर बद्रीनाथ धाम के कपाट 8 तारीख को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे।

मंदिर के कपाट खुलने के बाद पुजारियों ने मंदिर के गर्भ गृह की सफाई की और बाबा की पूजा अर्चना की गई और फिर प्रसाद का भोग लगाया। मराठा रेजीमेंट के बैंड ने भक्ति भरी धुनों से वहां उपस्थित श्रद्धालुओं का मन मोह लिया। चारों दिशाओं में बाबा केदारनाथ का जयकारा गूंज उठा।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री सपत्नीक भी पहुंचे और बीकेटीसी के सदस्य भी उपस्थित रहे। शुक्रवार की सुबह 11:00 बजे विधि विधान के साथ पंच केदार के तीसरे भगवान तुंगनाथ के कपाट भी खोल दिए गए।

Sponsored Ad

Sponsored Ad

ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इस वर्ष बड़ी संख्या में भक्त, बाबा केदारनाथ के दर्शन करेंगे आपको बता दें पहले दिन ही केदारनाथ दर्शन के लिए 12000 तीर्थ यात्रियों ने अपना पंजीकरण कराया है पिछले 2 साल कोरोना के कारण केदारनाथ में श्रद्धालुओं की संख्या काफी कम दर्ज की गई थी लेकिन इस बार अत्यधिक संख्या होने की उम्मीद है।

90000 से ज्यादा श्रद्धालुओं का पंजीकरण

31 मई तक केदारनाथ दर्शन के लिए अभी तक 90000 से ज्यादा श्रद्धालुओं ने अपना पंजीकरण कराया है और हेलीकॉप्टर सेवाओं की 5 जून तक एडवांस बुकिंग भी हो चुकी है। केदारनाथ धाम में 20 जून तक पूरी केदारघाटी के होटल और लॉज बुक हो गए हैं। साथ ही पैदल यात्रा मार्ग पर चलने वाले रास्ते पर 12000 घोड़े एवं खच्चरों का रजिस्ट्रेशन भी किया गया है।

बाबा के दर्शनों के लिए सभी व्यवस्था शुरू कर दी गई है। श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसका विशेष ख्याल रखा जा रहा है।

धार्मिक परंपरा के अनुसार बाबा केदारनाथ की पंचमुखी डोली केदारघाटी पहुंच चुकी है। यह डोली 2 मई को बाबा केदारनाथ के शीतकालीन निवास ओमकारेश्वर मंदिर से केदारनाथ मंदिर के लिए रवाना की गई थी। केदारनाथ मंदिर पहुंचने से पहले यह डोली विश्वनाथ मंदिर, गुप्तकाशी, फाटा, गौरी माई और गौरीकुंड सहित कई जगहों पर रुकी थी। कपाट खुलने के कार्यक्रम पर मंदिर को फूलों से सजाया गया। पिछले दिनों मौसम खराब होने के बाद भी मंदिर में सारी तैयारियां पूरी हो चुकी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.