रक्षाबंधन पर इस समय रहेगा भद्राकाल योग जिसमें शुभ कार्य वर्जित, जानें राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

0

नई दिल्ली, भारत में रक्षाबंधन का त्यौहार भाई बहन के प्यार का प्रतीक माना जाता है और इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांध कर उसकी लंबी उम्र की कामना करती हैं तो दूसरी ओर भाई भी अपनी बहनों की रक्षा का वचन देते हैं। इस बार के रक्षाबंधन के त्यौहार पर लोगों में तारीख को लेकर काफी उलझन (Raksha Bandhan 2022 Shubh Yog) बनी हुई है।

Raksha Bandhan 2022 Shubh Yog

Sponsored Ad

लोग 11 और 12 अगस्त को लेकर उलझन में हैं लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है हम आपके लिए लाए हैं रक्षाबंधन 2022 की सही तारीख और शुभ मुहूर्त (Raksha Bandhan 2022 Shubh Yog) जिसमें आप रक्षाबंधन का त्यौहार बिना किसी उलझन के मना सकते हैं। साथ ही आपको एक जानकारी ओर भी देने जा रहे हैं, इस बार के रक्षाबंधन पर भद्राकाल योग भी है। हम आपको भद्राकाल की पूरी जानकारी भी देने जा रहे हैं और बताऐंगे भद्राकाल का सही समय ताकि इस समय आप राखी बांधने से बचें।

क्या है भद्राकाल योग?

मांगलिक कार्यों को करते समय भद्राकाल का ध्यान रखा जाना चाहिए क्योंकि इस काल में किसी भी मांगलिका कार्यक्रम की शुरूआत और समापन को शुभ नहीं माना जाता है इसलिए इस काल की जानकारी रखने वाले इस समय में कोई भी शुभ कार्य नहीं करते हैं। भद्राकाल, ऐसा नहीं कि अशुभ ही होता है परन्तु ये कई मामलों में शुभ भी माना गया है। इस काल में अदालती, राजनैतिक एवं तंत्र कार्यों में सफलता पाई जा सकती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुराणों में देवी भद्रा को भगवान सूर्य की सुपुत्री बताया गया है और वे भगवान शनिदेव की बहन हैं जिनका स्वभाव शनिदेव की तरह ही थोड़ा कड़क है।

Sponsored Ad

Sponsored Ad

राखी का शुभ मुहूर्त और भद्राकाल योग

पूर्णिमा के साथ ही रक्षाबंधन की शुरूआत होती है और इस बार अगस्त माह में पूर्णिमा, गुरूवार 11 अगस्त को प्रातः 10:38 से शुरू होकर शुक्रवार, 12 अगस्त तक प्रातः 07:05 तक है। इस समय के बीच आप रक्षाबंधन का त्यौहार मना सकते हैं लेकिन इसी समय के बीच ही भद्राकाल का योग भी है। आइये जान लेते हैं भद्राकाल का समय।

भद्राकाल योग और राहुकाल

रक्षाबंधन पर राहुकालः 11 अगस्त 2022 को दोपहर 02:08 से 03:45 तक।

भद्राकाल समाप्तिः रात्रि 08:51 तक

भद्रापुंछ कालः 11 अगस्त सांय 05:17 से सांय 06:18 तक (इस दौरान राखी बांधी जा सकती है।)

भद्रामुख कालः सांय 06:18 से रात्रि 08:00 बजे तक

दिये गऐ समयों को छोड़, 11 अगस्त प्रातः 09:28 से रात्रि 09:14 तक रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जा सकता है।

रक्षाबंधन 2022 का शुभ मुहूर्त

Sponsored Ad

उपरोक्त बताऐ गऐ समय के अलावा आप इन शुभ मुहूर्तों में राखी का त्यौहार मना सकते हैं। आइऐ जानते हैं राखी बांधने के शुभ मुहूर्त

अभिजीत मुहूत योगः दोपहर 12:06 से 12:57 तक

अमृत काल योगः सांय 06:55 से रात्रि 08:20 तक

भद्राकाल के बीच इस समय राखी बांधी जा सकती है

हमने आपको 11 अगस्त से 12 अगस्त तक के सभी शुभ और अशुभ मुहूर्तों के बारे में बता दिया है लेकिन यदि आपको भद्राकाल के दौरान भी राखी बंधवानी पड़े तो भद्रापुंछ काल में राखी बंधवाई जा सकती है जिसका समय सांय 05:17 से सांय 06:18 तक है या फिर भद्राकाल की समाप्ति के बाद। सूर्यास्त के बाद भी राखी नहीं बांधनी चाहिए, इससे अच्छा है कि आप सूर्यास्त होने पर, अगले दिन 12 अगस्त की सुबह 07:05 तक ही राखी बांधे।

जरूरी सूचना

इस जानकारी को विभिन्न माध्यमो जैसे ज्योतिषियों/पंचांग/इंटरनेट और अन्य मान्यताओं के आघार पर संग्रहित किया गया है इसकी सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विज़िटर्स इसे केवल सूचना के आधार पर ग्रहण करें, इस जानकारी को मानने की जिम्मेदारी खुद विज़िटर की ही होगी

ये भी पढ़ें: Raksha Bandhan Kab Hai

Leave A Reply

Your email address will not be published.

x