पंजाब को अब ‘उड़ता पंजाब’ के रूप में नहीं बल्कि ‘उठता पंजाब’ के रूप में जाना जाएगा : राघव चड्ढा

0

आम आदमी पार्टी के पंजाब प्रभारी राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने गुरुवार को कहा कि पंजाब को अब ‘उड़ता पंजाब’ (नशे के संदर्भ में) के रूप में नहीं बल्कि ‘उठता पंजाब’ (पंजाब की जनता का जागरण) के रूप में जाना जाएगा। चुनाव आयोग द्वारा मतगणना के शुरुआती रुझानों में पंजाब की जनता ने राज्य में AAP के लिए एक व्यापक संकेत दिया है।

राघव चड्ढा ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर करते हुए कार्यकार्ताओं के साथ कुछ फोटो शेयर की हैं और कैप्शन दिया है “जनता दी सरकार”

Sponsored Ad

नई दिल्ली में शिक्षा के क्षेत्र में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यों का उल्लेख करते हुए, राघव चड्ढा ने कहा, “अन्य पार्टियों ने हमें बदनाम करने की कोशिश की, अरविंद केजरीवाल को आतंकवादी कहा, लोगों ने साबित कर दिया कि वह ‘आतंकवादी’ नहीं बल्कि ‘शिक्षावादी’ हैं।”

उन्होंने कहा, “पंजाब ने साबित कर दिया है कि पंजाब की जनता को अरविंद केजरीवाल और भगवंत मान की जोड़ी पसंद है और किसी अन्य पार्टी की जोड़ी नहीं।”

Raghav Chadha ने पार्टी कार्यकर्ताओं को दिया श्रेय

Sponsored Ad

Sponsored Ad

पंजाब में हुए विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन के लिए उन्होने पार्टी कार्यकर्ताओं को श्रेय दिया और कहा, “सारा श्रेय आप कार्यकर्ताओं को जाता है, उन्होंने दिन रात, गर्मी सर्दी नहीं देखी और काम करना जारी रखा। पार्टी सभी के लिए काम करेगी।”

आज 10 मार्च को चुनाव आयोग की लाईव कांउटिंग के अनुसार आज दोपहर 12.15 बजे तक आम आदमी पार्टी, पंजाब की 117 सीटों वाली विधानसभा में 90 सीटों पर आगे चल रही थी। आप के बाद कांग्रेस जो 18 और और उसके बाद शिरोमणि अकाली दल जो 6 सीटों पर बढ़त बनाऐ हुऐ थी।

पंजाब में AAP की पहली जीत होगी

यदि पंजाब में आम आदमी पार्टी जीतती है, तो यह राज्य में पार्टी की पहली जीत होगी और पिछले 2017 के चुनावों को देखा जाए तो ये पार्टी के प्रदर्शन में बड़ा सुधार होगा, जब वह कांग्रेस के बाद दूसरे स्थान पर रही थी।

पिछले वर्ष कांग्रेस ने गुटबाजी और सत्ता विरोधी लहर से लड़ाई लड़ी और चुनाव में उतरी। पार्टी ने पिछले साल सितंबर में अपना मुख्यमंत्री भी बदल दिया, यहां तक ​​​​कि पंजाब कांग्रेस के नए प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने मुख्यमंत्री बनने की इच्छा जताई थी लेकिन कांग्रेस ने 20 फरवरी को मतदान से कुछ दिन पहले पंजाब के लिए चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया।

भाजपा और पंजाब लोक कांग्रेस का गठबंधन

शिरोमणि अकाली दल, जिन्होने 3 कृषि कानूनों के संदर्भ में भाजपा के साथ अपना गठबंधन तोड़ दिया था, ने विधानसभा चुनावों के लिए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ गठबंधन किया।

भाजपा ने पहली बार है पंजाब में 65 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ा है और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की ‘पंजाब लोक कांग्रेस’ और एसएस ढींढसा के नेतृत्व वाली ‘SAD’ (संयुक्त) के साथ गठबंधन किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.