किसानों का देशव्यापी Rail Roko Andolan, कितना रहा असरदार

0 70

Rail Roko Andolan: कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे है किसानों ने देश के कई राज्यों में रेल रोको आंदोलन के तहत देशभर के कई राज्यों में रेल रोक कर प्रदर्शन किया और कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। किसानों ने देशव्यापी Rail Roko Andolan के तहत देशभर के कई शहरों में दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक जगह-जगह ट्रेनों को रोका।

दिल्ली में कई मेट्रों स्टेशन रहे बंद

किसानों के रेल रोको अभियान के चलते राजधानी दिल्ली में कई मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया जिसमें टिकरी बॉर्डर, बहादुरगढ़ सिटी और ब्रिगेडियर होशियार सिंह मेट्रो स्टेशन पर आने-जाने पर पाबंदी लगा दी गई।

गाजियाबाद स्टेशन पर रोकी गई उत्कल एक्सप्रेस

किसानों के Rail Roko Andolan के कारण ओडिशा के पुरी से उत्तराखंड के हरिद्वार तक जाने वाली उत्कल एक्सप्रेस को गाजियाबाद रेलवे स्टेशन पर रोक दिया गया। इस दौरान किसानों ने मोदीनगर रेलवे स्टेशन पर रेल पटरियों को जाम कर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया।

राजस्थान में दिखा Rail Roko Andolan का असर

किसानों के रेल रोको आंदोलन का ज्यादा असर राजस्थान में देखने को मिला जहां पर कई ट्रेनों को रोकने की कोशिश की गई। किसान आंदोलन के तहत संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान में जयपुर समेत कई शहरों में किसानों ने ट्रेनों के आगे खड़े होकर चक्का जाम कर विरोध-प्रदर्शन किया और ट्रेनों को रोका।

इस दौरान किसान और पुलिस में झड़प भी हुई। वहीं कोटा में भी किसानों ने रेलवे ट्रैक पर बैठकर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

Rail Roko Andolan का हरियाणा में असर

हरियाणा में Rail Roko Andolan के तहत किसानों ने पलवल, अंबाला समेत कई शहरों में रेलवे ट्रैक को ब्लॉक किया और प्रदर्शन कर कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की तो कुरूक्षेत्र में गीता जयंती एक्सप्रेस ट्रेन को भी रोका गया। चरखी दादरी में किसानों के लिए खाने-पीने का इंतजाम किया गया। गांव के लोंगो ने किसानों को और धरना स्थल पर तैनात पुलिसकर्मियों को चाय-पकौड़े खिलाए।

पुणे में रोकी कोयना एक्सप्रेस, 3 के खिलाफ केस दर्ज

महाराष्ट्र में अखिल भारतीय किसान सभा के सदस्यों ने रेल पटरियों पर प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर विरोध किया। इस प्रदर्शन में राजनीतिक दलों ने भी भाग लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया और कोयाना एक्सप्रेस को रोक कर, ट्रेन के सामने खड़े होकर नारेबाजी की।

पंजाब में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने किया प्रदर्शन

पंजाब के अमृतसर में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने रेल रोको आंदोलन के तहत रेलवे ट्रैक को रोककर प्रदर्शन किया और जालंधर कैंट स्टेशन पर सुपर एक्सप्रेस गाड़ी को रोका तो फिरोजपुर के फगवाड़ा स्टेशन पर मालवा एक्सप्रेस ट्रेन को रोका गया। वहीं पठानकोट, लुधियाना में भी पश्चिमी एक्सप्रेस को रोककर कृषि कानून को वापस लेने की मांग करते हुए प्रदर्शन किया।

CPALead-playnwin1lac5503545

आन्दोलन के खिलाफ रेलवे की खास तैयारी

किसानों ने देशव्यापी Rail Roko Andolan के मद्देनज़र रेलवे ने देशभर में रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स की 20 कंपनियों को तैनात किया जिसको मुख्य तौर पर पंजाब, हरियाणा, पश्चिम बंगाल और यूपी पर ज्यादा फोकस किया गया।

किसानों की 11 दौर की बातचीत रही बेनतीजा

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान और केंद्र सरकार के बीच 11 दौर की बातचीत में कोई सहमति नहीं बनी है… हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक कृषि कानूनों को लागू करने पर रोक लगाई है… लेकिन किसान संगठन, तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं।

आपको बता दें पिछले साल 8 दिसम्बर 2020 को भी किसानों ने भारत बन्द का ऐलान किया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.