अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति पर विदेश मंत्री S Jayshankar ने की Antony Blinken से बात

0 57

S. Jayshankar spoke to Antony Blinken : हाल ही में अफगानिस्तान में हुऐ घटनाक्रम के मद्देनज़र विदेश मंत्री एस जयशंकर (S. Jayshankar) ने अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन से बात की। एस. जयशंकर ने एंटनी ब्लिंकेन (Antony Blinken) से अफगानिस्तान की खराब स्थिति फोन पर चर्चा की। कई भारतीय नागरिक जो कि अफगानिस्तान में फंसे हुए हैं उन्हें निकालने के लिए सरकार पूर्ण रूप से प्रयास में लगी है। इस विषय पर दोनों मंत्रियों के बीच हुई बातचीत में एस जयशंकर ने भारत के निवासियों को अफगानिस्तान से निकालने के लिए काबुल एयरपोर्ट को दोबारा शुरू करने की सलाह दी।

S. Jayshankar ने ट्वीट कर दी जानकारी

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन से फोन पर बातचीत के बाद, एस. जयशंकर ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर ट्वीट करके ये जानकारी दी कि काबुल में स्थित हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को जल्द बहाल करने पर विचार किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने अमेरिका द्वारा किए जा रहे प्रयासों का भी तहेदिल से शुक्रियादा किया। अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने भी अपने टवीटर अकाउंट पर इस चर्चा की जानकारी दी।

काबुल पर रहेगी निगरानी : एस जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यह भी बताया कि उनकी नजर लगातार काबुल पर बनी रहेगी। उन्होनें यह बात भी कही कि “सबसे पहले हमें भारत के नागरिकों की वापसी की स्थिति को समझना होगा। इंटरनेशनल एयरपोर्ट को दोबारा सक्रिय करने की समस्या पर भी गौर करना होगा। वर्तमान स्थिति को समझते हुए हर संपूर्ण प्रयास किए जा रहे हैं।” एस जयशंकर का कहना है कि हम संयुक्त राष्ट्र में अपनी मौजूदगी को दर्ज कराते हुए प्रमुख चिंताओ को सभी के समक्ष भी रखेंगें।

TNG App Install

अफगानिस्तान में बना अशांति का माहौल

आपको बता दें जब से तालिबान ने काबुल पर कब्जा किया है, वहां रहने वाले विदेशी नागरिक वापस अपने-अपने देशों में लौटना चाहते हैं। दूसरी ओर अफगान के नागरिक भी तालिबान को लेकर बड़ी चिंता में रहते हैं। हालांकि तालिबान लगातार वहां की जनता से यह दावा कर रहा है कि अफगानिस्तान में शांति बनी रहेगी। साथ में उनका यह भी कहना है कि अब अफगानिस्तान पहले की अपेक्षा अब ज्यादा शांतिपूर्ण देश होगा। इसके बावजूद भी लोगों के मन में तालिबान के पुराने शासन का आतंक आज भी जिंदा है जिस वजह से अफगान के लोगों का परेशान होना जाहिर सी बात है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.