Sabja Seeds in Hindi | सब्जा सीड्स के फायदे, वज़न घटाने में कैसे करें इस्तेमाल

0

दोस्तो आज हम आपको इस आर्टिकल में Sabja Seeds in Hindi के बारे में जानकारियां और उनके फायदे बताने जा रहे है। अधिकतर लोग Sabja Seeds और Chia Seeds को एक ही मानने की गलती कर बैठते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं हैं। सब्जा और चिया सीड्स दोनों ही अलग होते हैं और दोनों का काम भी अलग ही होता है।

Sponsored Ad

Sabja Seeds in Hindi (सब्जा को हिन्दी में क्या कहते हैं)

सब्जा सीड्स तुलसी के बीज को कहा जाता हैं। जी हाँ वही तुलसी का पौधा जो हिन्दू धर्म को मानने वाले लोगों के अधिकतर घरों में पाया जाता है और जिसकी लोग पूजा-अर्चना भी करते हैं। तुलसी को हिन्दू धर्म में एक विशेष दर्जा दिया गया है। तुलसी का पौधा पूजनीय होने के साथ-साथ बहुत गुणकारी भी माना जाता है और तुलसी बहुत सी बीमारियों जैसे की हल्की खासी, हल्का ज़ुकाम, बुखार, सिर दर्द, पीड़ादायक गला और सास लेने में दिक्कत जैसी सभी बीमारियों के लिए इस्तेमाल की जाती हैं। तुलसी बहुत सी दवाइयां बनाने में भी काम आती हैं।

सब्जा सीड्स तिल के जैसे दिखाई देती है पर यह काले रंग के होते है जो खाने में कठोर होते है इसलिए उन को चबा के खाना थोड़ा कठिन हो सकता है और इसे कच्चा चबाने से इसका असर भी कम हो जाता है इसलिए सब्जा के बीज को रात भर भिगोकर ही उसका सेवन करना चाहिए।

अगर आप सब्जा के बीज को रात भर भिगो के नहीं रखना चाहते है तो आप सब्जा सीड्स को 10–15 मिनट गरम पानी में भी भिगो कर रख सकते है और फिर उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। पानी में भिगो कर रखने से ये कुछ अलग तरह के एंजाइम्स छोड़ते है जो आपकी अनावश्यक भूख को कंट्रोल करते है।

Sponsored Ad

Sponsored Ad

सब्जा सीड्स को भिगो के रखने के बाद यह फूल जाते है और इनका आकार दोगुना हो जाता है। सब्जा सीड्स का स्वाद बहुत कम होता है इसलिए आप इसको अलग अलग चीजों जैसे कि दूध, पानी, दही आदि के साथ मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। सब्जा सीड्स गर्मियों के मौसम के लिए बहुत लाभकारी होते है क्योंकि यह सब्जा के बीज हमारे शरीर को ठंडा रखने का भी काम करते हैं।

आप इसे नींबू पानी, आइसक्रीम, फालूदा आइसक्रीम के साथ मिलाकर डेज़र्ट्स का मजा उठा सकते है और गर्मी से बचे भी रह सकते है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए सब्जा सीड्स का सेवन पूरे दिन में 1 से 2 चम्मच तक ही लेने की सलाह दी जाती है।

सब्जा को अंग्रेजी भाषा में क्या कहते हैं

What is Sabja Called in English सब्जा सीड्स यानि तुलसी के बीज को अंग्रेजी भाषा में बेसिल सीड्स (Basil Seeds) कहा जाता है और तुकमारिया सीड्स (Tukmaaria seeds) भी कहा जाता है। जो चिया सीड्स से काफी अलग होती है।

सब्जा के बीज कहा मिलते हैं

सब्जा के बीज भारत और भूमध्य सागर (Mediterranean Sea) के इलाको, जैसे की उत्तरी अफ्रीका, यूरोप, अनातोलिया में पाए जाते है। वहीं सब्जा के बीज नॉर्थ अमेरिका और साउथ अमेरिका में भी बहुत ज्यादा मात्रा में पाए जाते है। सब्जा सीड्स को ज्यादा से ज्यादा सलाद में और गार्निशिंग करने के इस्तेमाल में लाया जाता है।

सब्जा सीड्स के अन्य फायदे (Benefits of Sabja Seeds in Hindi)

सब्जा सीड्स में आयरन, प्रोटीन, विटामिन A, विटामिन B, विटामिन K, ओमेगा–3 फैटी एसिड, ओमेगा–6 फैटी एसिड, कार्बोहाइड्रेट्स, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि फाइबर पाए जाते है जो हमारी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होते है। सब्जा सीड्स में हाई फाइबर होने की वजह से पाइल्स के मरीज़ भी इसका सेवन कर इस बीमारी को दूर कर सकते हैं।

सब्जा सीड्स के उपयोग से हम हमारी इम्यूनिटी को भी बूस्ट कर सकते है। साथ ही सब्जा सीड्स आपके आर्टरीज (Arteries) जिसे हिंदी में धमनिया भी कहते हैं उन्हें साफ रखता है जिससे आपको हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है। यह आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित कर शरीर को ठंडा करता है और यह आपके पाचन शक्ति को भी बेहतर करता है।

Sponsored Ad

आइए आपको हमारे इस आर्टिकल Sabja Seeds in Hindi में सब्जा सीड्स से होने वाले कुछ ओर फायदे बताते है और साथ ही बताऐंगे कि Sabja Seeds का इस्तेमाल कैसे करना है:

  • Sabja Seeds ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है।
  • वज़न घटाने में भी Sabja Seeds मदद करता है।
  • बालो को चमकदार और स्वस्थ बनाने में मदद करता है।
  • पेट से सम्बन्धित समस्याओं जैसे एसिडिटी और कब्ज से मुक्त करता है।
  • हार्टबर्न के इलाज में भी Sabja Seeds लाभकारी है।
  • त्वचा की परेशानियों को ठीक करता है।

हमने आपको सब्जा सीड्स के फायदे तो बता दिया तो अब चलिए हम आपको सब्जा सीड्स का इस्तेमाल को विस्तार से बताते हैं:

Sabja Seeds से ब्लड शुगर कंट्रोल

आपको हमारी हिदायत है कि किसी भी प्रयोग को करने से पहले आपको अपने चिकित्सक से पराशर्म अवश्य ही ले लेना चाहिए और तभी किसी प्रयोग को शुरू करना चाहिए।

ब्लड शुगर की समस्या आज कल बहुत ही आम समस्या हो गई है और बहुत से लोग इस समस्या से पीढ़ित भी हैं लेकिन अगर आपका ब्लड शुगर कंट्रोल में नहीं रहता है तो ये समस्या आपके लिए बहुत गंभीर रूप ले सकती है। अगर आपका ब्लड शुगर का स्तर कम हो जाता है तो आपको चक्कर आना, सिर दर्द होना, धुंधला दिखाई देना आदि बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

यदि आपका ब्लड शुगर का स्तर बढ़ गया है तो आपको सांस लेने में दिक्कत, उल्टी जैसा मन, हड्डियों में दर्द, पेट में दर्द जैसी दिक्कतों को झेलना पड़ सकता है। ऐसा माना जाता है कि सब्जा सीड्स आपके ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में सक्षम है।

सब्जा के बीज आपके मेटाबॉलिज्म (Metabolism) को कुछ हद तक धीमा कर कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) के ग्लूकोस को नियंत्रित करता है। ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए आप को सब्जा सीड्स को रात को भिगो के रखना चाहिए और अगली सुबह आप जब उठकर देखेंगे तो सब्जा सीड्स फूल कर लगभग दुगने साईज़ के हो चुके होंगे।

आपको उन सब्जा सीड्स के पानी को फेक देना है। इसके बाद 1 कप नार्मल दूध में रातभर भीगे हुए सब्जा के बीज को मिलाकर सुबह के नाश्ते में उसका सेवन कर सकते हैं और अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित कर सकते हैं।

वज़न घटाने में मदद करते हैं सब्जा सीड्स

आज कल मोटापा भी एक आम समस्या हो गई है और बिजी शेड्यूल होने के कारण हम इस समस्या पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते हैं। समय ना होने की वजह से हम अपनी सेहत पर ज्यादा ध्यान भी नहीं दे पाते। शरीर में मोटापा होना बहुत सी बीमारियों की वजह भी बन सकता है।

वजन कम करने के लिए लोग क्या-क्या जतन नहीं करते हैं। मोटापे से पीछा छुड़ाने के लिए लोग जिम (Gym) का सहारा लेते हैं और बहुत मेहनत से कसरत और एक्सरसाइज वगैरह करते हैं।

अगर आप अपना वज़न घटाना चाहते हैं तो भी सब्जा सीड्स का इस्तेमाल किया जा सकता है। सब्जा सीड्स से आपको वजन कम करने में मदद मिल सकती है। सब्जा के बीज में हाई फाइबर होने के साथ–साथ लो कैलोरीज़ भी होती हैं जो वजन कम करने में बहुत ही असरदार साबित होते है।

सब्जा सीड्स अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (ALA), ओमेगा-3 एसिड और ओमेगा–6 एसिड से भी भरपूर होते हैं जो आपके शरीर में फैटबर्न करने के लिए आपके मेटाबॉलिज्म को मजबूत बनाता है। अगर आप सब्जा के बीज का इस्तेमाल कर अपना वज़न घटाना चाहते हैं तो आपको अपने डेली रूटीन में ब्रेकफास्ट के समय इनका सेवन करना होगा

नोट: एक बार हम फिर यहीं कहेंगे कि किसी भी नऐ प्रयोग को शुरू करने से पहले आपको किसी कुशल चिकित्सक से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

Sponsored Ad

सब्जा बीज से मोटापे को दूर करने के लिए आपको सुबह के नाश्ते में भीगे हुए सब्जा के बीज को खाना होगा। आप सब्जा के बीज को दही के साथ भी खा सकते है अगर आपको दही पसंद नही है तो आप सुबह के नाश्ते में खाई जाने वाली फ्रूट सलाद में भी भीगे हुए सब्जा सीड्स को मिलाकर खा सकते हैं।

1 लीटर पानी में 2 चम्मच सब्जा के बीज रातभर भिगोकर उसे अगले दिन थोड़ा-थोड़ा करके पी सकते है और बीजों को चबा सकते हैं। ऐसे करने से सब्जा के बीज में मौजूद फाइबर और कम कैलोरी की वजह से आपको कम भूख लगेगी जिससे आपको अनावश्यक खाने के लिए मन भी नहीं होगा। इसी तरह भूख कम लगने के कारण आपका वज़न धीरे-धीरे कम होने लगता है।

बालो को चमकदार और स्वस्थ बनाता है Sabja Seeds

यदि आप अपने बालो से संबंधित समस्या, जैसे की बालों का झड़ना, बालों का टूटना सफेद बाल आदि का सामना कर रहे है तो सब्जा के बीज आपको इन सब समस्याओं से भी छुटकारा दिलवा सकते हैं क्योंकि हम आपको पहले ही बता चुके है की सब्जा सीड्स में आयरन, प्रोटीन, विटामिन होते हैं। प्रोटीन जो हमारे बालो के लिए भी बेहद ही फायदेमंद होता है। सब्जा सीड्स से आप अपने बालों को मजबूत, शाइनी और रंग में काला बना सकते है।

ये भी पढ़ें: Chia Seeds In Hindi | जानिये चिया सीड्स के फायदे, कितना और कैसे करें सेवन

अगर आपको अपने बालों को चमकदार, हेल्थी, मज़बूत और काले रंग का बनाना चाहते हैं तो आपको आमला और सब्जा के बीज को सामान मात्रा में लेकर ठंडे पानी में मिलाकर एक पेस्ट बनाकर रात भर रखना होगा। सुबह आपको उस पेस्ट में थोड़ा सा नारियल का तेल मिलाकर बालों में लगाना होगा। अगर आप पेस्ट बनाकर नहीं लगाना चाहते हैं तो आप जैतून के तेल (Olive Oil) के बाद नारियल तेल में सब्जा के बीज का पाउडर मिलाकर उसे भी लगा सकते है।

आशा करते है आपने हमारे इस पोस्ट Sabja Seeds in Hindi में आपको सब्जा सीड्स के बहुत से फायदे जान लिए होंगे और आप उनको अपने उपयोग में भी लायेंगे तो चलिए आपको सब्जा के बीज के कुछ और फायदे बता देते हैं।

सब्जा सीड्स देता है पेट की समस्याओं से मुक्ति

कभी-कभी एसिडिटी और कब्ज जैसी आम समस्या भी गंभीर रूप ले सकती है। सब्जा सीड्स एसिडिटी कम करने में भी लाभदायक हो सकते हैं। इसके लिए आपको एक कप दूध में गुलगंद और भीगे हुए सब्जा के बीज मिलाकर पीना चाहिए जिससे एसिडिटी से छुटकारा मिल सकता है।

अगर आप कब्ज से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको आधा घंटा सब्जा सीड्स को पानी में भिगो कर रखना होगा। आधे घंटे के बाद आपको भीगे हुए सब्जा सीड्स को पानी से निकालकर एक गिलास गरम दूध में मिलाकर, सोने से पहले पीना चाहिए इससे आपको कब्ज में आराम मिलेगा।

हार्टबर्न में लाभकारी सब्जा सीड्स

सब्जा सीड्स में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो हमारी बॉडी को ठंडा कर आपके शरीर की गर्मी को कम करने में मदद करते है। गर्मियों के मौसम में सब्जा के बीज को आप किसी भी चीज़ के मिला कर ले सकते है। नींबू पानी या किसी शरबत के साथ भी सब्जा सीड्स का सेवन कर सकते हैं। हार्टबर्न को कम करने के लिए या अपने शरीर की गर्मी दूर करने के लिए आप पानी में भीगे हुए सब्जा सीड्स को दूध या पानी के साथ पी सकते है।

त्वचा की परेशानियों को ठीक करता है

आज के समय में कौन अच्छी त्वचा नहीं चाहता। सभी चाहते हैं की उनकी त्वचा बहुत हेल्थी, ग्लोई और सुंदर दिखे लेकिन आज कल के प्रदूषण के चलते बाहर निकलने पर आपके चेहरे पर दाग, धब्बे, कील मुहांसे हो जाते है। सब्जा के बीज आपकी इस समस्या का भी समाधान कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: Chia Seeds In Hindi | जानिये चिया सीड्स के फायदे, कितना और कैसे करें सेवन

Sponsored Ad

सब्जा सीड्स में एंटीऑक्सीडेंट्स तत्व होते हैं जो हमारी त्वचा के लिए अच्छे माने जाते हैं। सब्जा के बीज को पीसकर कर नारियल तेल (Coconut Oil) में मिलाकर त्वचा के इफेक्टेड एरिया (Effected Area) पर लगा सकते हैं।

उम्मीद करते हैं इस आर्टिकल Sabja Seeds in Hindi में आपको सब्जा के बीज के बारे में पर्याप्त जानकारी मिल गई होगी और उनके अति उत्तम फायदे भी पता चल गए होंगे। अब हम आपको सब्जा सीड्स से होने वाले कुछ नुकसान भी बताना चाहते हैं ताकि आप इस जानकारी का अच्छे से लाभ उठा सकें।

सब्जा सीड्स के नुकसान

आईए अब बात करते हैं सब्जा सीड्स को इस्तेमाल करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि फायदा होने की बजाय आपको किसी तरह का नुकसान ना उठाना पड़े।

  • बच्चों को सब्जा सीड्स खिलाते वक्त आपको ज्यादा सावधान रहना होगा क्योंकि अगर बच्चें पानी के साथ बीज सही से नहीं निगल पाएंगे तो उनको गले में घुटन महसूस हो सकती है या फिर इसके लिए आपको किसी कुशल चिकिस्तक से सलाह लेना अनिवार्य है।
  • गर्भवती महिलाओं को सब्जा के बीज को इस्तेमाल से पहले अपने चिकिस्तक की सलाह जरूर लेनी चाहिए क्योंकि इसके सेवन से शरीर में एस्ट्रोजन लेवल बढ़ सकते हैं और साथ ही सब्जा के बीज का सेवन करने से मासिक धर्म को क्षुब्ध ( उत्तेजित) भी हो सकता है इसलिए गर्भवती महिलाओं के सब्जा सीड्स का सेवन हानिकारक हो सकता है।
  • आपको कम से कम दो हफ्तों तक सब्जा के बीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जब आपकी हालही में कोई सर्जरी हुई हो।
  • अगर आपने हाल ही में कोई सर्जरी कराई है या आपको कोई चोट लगी है तो आपको सब्जा सीड्स का सेवन नहीं करना चाहिए अगर आप उस समय सब्जा सीड्स का सेवन करते है तो आपको ब्लड क्लोटिंग की समस्या हो सकती है।
  • अगर आप थायराइड की बीमारी से ग्रस्त है तो भी आपको सब्जा सीड्स के सेवन से बचना चाहिए।
  • अगर आप सब्जा सीड्स का सेवन ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए करते हैं तो आपको अपने ब्लड शुगर लेवल को चेक करते रहना होगा क्योंकि कभी-कभी इसके इस्तेमाल से शुगर का स्तर बहुत लो हो जाता है।

Sabja Seeds के साइड इफेक्ट्स

सब्जा सीड्स के इस्तेमाल के समय कुछ लोगो में दस्त, उल्टी, जी मचलना, सिर दर्द, पेट की परेशानी, भूख बहुत ज्यादा कम हो जाना जैसी समस्या देखी गई है अगर आपको इसमें से कोई भी दिक्कत होती है तो आपको जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

ये भी पढ़ें: Chia Seeds In Hindi | जानिये चिया सीड्स के फायदे, कितना और कैसे करें सेवन

हमने आपको हमारे आर्टिकल Sabja Seeds in Hindi में सब्जा के बीज क्या हैं और इसका सेवन कैसे करना है, इसके फायदे व नुकसान सभी बता दिये हैं लेकिन कुछ लोग सब्जा सीड्स को Chia Seeds समझने की भूल कर जाते हैं तो हम आपको बता दें कि चिया सीड्स सब्जा के बीज से भिन्न होते हैं।

सब्जा सीड्स और चिया सीड्स में अंतर (Difference between Sabja and Chia Seeds)

Sabja Seeds काले रंग के होते है और इनका आकार गोल होता है जबकि Chia Seeds हल्के ग्रे, काले, सफ़ेद रंग में भी पाये जाते हैं। चिया सीड्स का आकार सब्जा सीड्स से बड़ा होता है और ये अंडाकार शेप के होते है जबकि तुलसी के बीज यानी सब्जा सीड्स को बिना भिगोए खाना कठिन है और वही चिया के बीज को आप भिगा कर या कच्चा भी खा सकते है।

सब्जा सीड्स का बहुत हल्का सा स्वाद होता है और चिया सीड्स का अपने कोई स्वाद नहीं होता। चिया के बीज के मुकाबले सब्जा सीड्स जल्दी पानी सोख लेते और फूलने में थोड़ा ज्यादा समय लेते है और वही सब्जा के दाने बहुत कम समय में ज्यादा पानी सोख लेते हैं और जल्दी से फूल जाते जिससे उनका आकार दोगुना हो जाता है।

उम्मीद करते हैं कि हमारा आर्टिकल Sabja Seeds in Hindi पढ़ कर आपके बहुत सारे सवालों का जवाब मिल गया होगा और अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो इस आर्टिकल को ज्यादा ज्यादा शेयर करें। आप हमें नीचे दिये कमेंट सेक्शन में कमेंट भी कर सकते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.