केरल में पाया गया कोरोना वायरस का दूसरा पॉजिटिव मामला: जाने क्या हैं वायरस के लक्षण?

0 341

केरल में कोरोना वायरस का दूसरा पॉजिटिव मामला सामने आया है ग्रसित रोगी पिछले कुछ समय पहले चीन से लौट कर भारत आया है। फिलहाल रोगी की हालत स्थिर बनी हुइ् है और उस पर डॉक्टरों की टीम कड़ी नजर बनाये हुए है।

इस दौरान भारत, चीन के वुहान में रहने वाले भारतीयों को वहां से निकाल रहा है। शनिवार को पहला जत्था वुहान से भारत लाया गया था जबकि एयर ​इंडिया की एक ओर फ्लाईट जल्द ही दिल्ली पहुंचने वाली है।

मेडिकल स्टूडेंट ​जो सबसे पहले कोराना वायरस से पॉजिटिव पाई गई थी उन्हे निगरानी में रखा जा रहा है और उनकी हालत संतोषजनक बताई जा रही है इस खबर से ​सम्बधित तीन लोगों का भी गिरफ्तार किया गया जो सोशल मिडिया पर गलत खबर फैला रहे थे।

वुहान विश्वविधालय की मेडिकल छात्रा का त्रिशूर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज जारी है अस्पताल के अधिकारियों ने एक बुलेटिन में कहा कि जो भी रोगग्रस्त हैं उनकी हालत स्थिर बनी हुई है

स्वास्थ मंत्री के के शैलजा ने कहा कि कोराना वायरस से सम्बधित झूठी अफवाहें फैलाने वालों पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। शबरी को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था परन्तु उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया है। जबकि शफी और शिराज को शनिवार को गिरफ्तार किया गया था।

एक मेडिकल बुलेटिन में बताया गया कि 1793 लोगों को, जो कोराना वायरस प्रभावित ​देशों से लौटे हैं उन सभी को निगरानी में रखा गया है अब तक 39 सैम्पल को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे में परीक्षण के लिए भेजा गया है जिनमे 23 सैम्पल नैगेटिव पाए गये हैं।

कोरोना वायरस के लक्षण:

WHO के अनुसार ये वायरस सी-फूड से जुड़ा है और इस की शुरूआत चीन के वुहान शहर की सी-फूड मार्किट से मानी जा रही है। ये वासरस उंट, बिल्ली, चमगादड़ सहित कई पशुओं में फैल सकता है। WHO ने यह भी अंदेशा जताया है कि वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी आसानी से फैल सकता है।

य​दि कोई व्यक्ति इस बिमारी से ग्रसित होता है तो इसके लक्षण लगभग 14 दिनों क बाद दिखाइ देते हैं। इसके कारण मरीजों में आमतौर पर जुकाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में परेशानी, बुखार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं अगर समय पर इन पर ध्यान न दिया जाए तो ये किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं।

फिलहार कोरोना वायरस का कोई भी इलाज मेडिकल सांइस में उपलब्ध नहीं है फिर भी एंटी वायरल ​दवाईयां काम कुछ हद तक काम कर सकती हैं आप को बता दें कि कई वैज्ञानिक इस वायरस से निजात पाने के लिए एक वैक्सीन पर काम कर रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.