Goldfish का Scientific नाम क्या है, The Complete Guide on Goldfish

0 5,484

Goldfish ka Scientific Naam Kya Hai जी हॉं यही शीर्षक है हमारे इस आर्टिकल का। गोल्डफिश जिसे लोग अपने घरों के फेंगशुइ एक्वेरियम में रखना पसंद करते हैं क्योंकि गोल्डफिश को चीन के फेंगशुइ शास्त्र में शुभ माना गया है। हम आपको बताने जा रहे हैं Goldfish के अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में तो आईये शुरू करते हैं गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?

Content: Goldfish ka Scientific Naam Kya Kya Hai

Goldfish ka Scientific Naam Kya Hai

Goldfish का Scientific नाम Carassius Aauratus है और हिन्दी में इसे कैरासियस ऑराटस कहते हैं। गोल्डफिश मछली कार्प (Carp) फैमिली की प्रजाति है जो ज्यादातर सुनहरे संतरी रंग में पाई जाती है और देखने में अत्याधिक आकर्षक लगती है।

गोल्डफिश साफ़ मीठे पानी में रहने वाली मछली है क्योंकि ये मछली देखने में बहुत ही सुंदर और आकर्षक होती है इसलिए गोल्डफिश सबसे ज्यादा इंडोर एक्वेरियम में रखी जाने वाली पहली मछली है जो अलग अलग किस्म और रंगो में भी पाई जाती है।

गोल्डफिश को सौभाग्य आकर्षित करने वाली (Good Luck Charm) मछली भी माना जाता है। साउदर्न यूरोप (Southern Europe) में परम्परा है कि शादी की पहली सालगिरह पर पति अपनी पत्नी को गोल्डफिश तोहफे के तौर पर दिया करते है ताकि उनका वैवाहिक जीवन खुशहाली से भर जाए।

TNG App Install

हमारे आर्टिकल Goldfish ka Scientific Naam Kya Hai में अब हम आपको गोल्डफिश के बारे में कुछ अन्य महत्वपूर्ण और जरूरी जानकारियां बताने जा रहे है।

1. Goldfish को हिंदी में क्या कहा जाता है

गोल्डफिश को हिंदी में सुनहरी मछली या स्वर्ण मछली कहते है। गोल्डफिश को गोल्डन क्रूशियन कार्प के नाम से भी जाना जाता है। यह मछली कार्प परिवार की सदस्य हैं। गोल्डफिश कई रंगो में भी पाई जाती हैं जैसे लाल, सफेद, संतरी, ब्राउन, ब्लैक, येलो आदि।

2. Goldfish कितने समय तक जीवित रह सकती है

आशावादी परिस्थितियों में गोल्डफिश 40 साल तक जीवित रह सकती है। घरेलू गोल्डफिश कम से कम 6 से 8 साल तक जीवित रहती है। गोल्डफिश को ज्यादा से ज्यादा समय तक जीवित रखने के लिए आपको उसके रहने वाले पानी के तापमान के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए।

आपको बता दें, गोल्डफिश के एक्वेरियम के पानी का तापमान करीब 2 से 24 डिग्री सेल्सियस होना चाहिए पर गोल्डफिश मैक्सिमम 30 डिग्री सेल्सियस वाले पानी में भी आसानी से रह सकती हैं। यदि पानी का स्तर pH 7.2 से 7.6 के बीच में हो तो ये गोल्डफिश के लिए ओर भी अच्छा होगा और मछली ज्यादा समय तक जीवित रह सकती है।

3. Goldfish कहाँ पाई जाती है

गोल्डफिश चीनी तालाबों में पाई जाती है। चीनी तालाबों के साथ गोल्डफिश उन तालाबों में भी पाई जाती है जिनकी जलधारा प्रवाह कम होती है। यह मछली सबसे पहले यूरोप में 17वीं सदी के की शुरूआत में पाई गई। गोल्डफिश अलग7अलग प्रजातियों में भी पाई जाती है

मुख्यत: इसकी प्रजातिया हैं, ओरंडा गोल्डफिश, लाइन हेड गोल्डफिश, रांचू गोल्डफिश, फैंटेल गोल्डफिश, ब्लैक मूर गोल्डफिश, कॉमन गोल्डफिश, शुबांकिन गोल्डफिश, रयुकिन गोल्डफिश, कोमेट गोल्डफिश और कुछ अन्य प्रजातियों में भी पाई जाती है।

यदि आप गोल्डफिश को अपने घर में रखना चाहते हैं तो हमारे आर्टिकल Goldfish ka Scientific Naam Kya Hai में आपको वो महत्वपूर्ण जानकारियां दी जा रही हैं जिनको पढ़ कर आप अपनी गोल्डफिश का बहुत अच्छे से ध्यान और देखभाल कर सकेंगे।

4. Goldfish बिना भोजन के कब तक रह सकती है

ऐक्वेरियम में रखी मछली को कितना खाना देना है और कब देना है, ये जानकारी बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आप मछलियों को जरूरत से ज्यादा खाना देंगें तो मछली मर भी सकती है और कम देंगें तो भी। इसलिए आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुनहरी मछली (Goldfish) 2 हफ्ते तक बिना खाने के आराम से रह सकती है लेकिन मछलियों को ज्यादा लंबा भूखा रखना ठीक नहीं है।

यदि आप कही बाहर जाने वाले है तो आपको अपनी मछली को किसी के पास देखभाल के लिए छोड़ कर जाना चाहिए या आप अपनी पालतू मछली को अपने साथ भी ले कर जा सकते है।

5. Goldfish या सुनहरी मछली क्या खाती है

आम तौर पर घरों में रखी जाने वाली पालतू मछलियों को बाजार में मिलने वाला फिश फूड ही दिया जाता है। गोल्डफिश, दोनो शाकाहारी और मासाहारी खाना खा सकती है। समुद्र या तालाब में रहने वाली गोल्डफिश समुद्री पौधे, समुद्री कीड़े, मेढक का डिंभकीट (tadpoles) आदि खाती हैं।

घरेलू इंडोर एक्वेरियम में रहने वाली गोल्डफिश सब्जियों में मटर, पालक, खीरा, गाजर, ब्रोकली आदि खा सकती हैं। फलों की बात की जाए तो सुनहरी मछली सेब, अंगूर, तरबूज, संतरा, केला आदि भी खा सकती हैं। गोल्डफिश उबले हुए चावल भी खा सकती हैं।

6. Gold Fish की देखभाल कैसे करें

goldfish scientific name
Goldfish Scientific Name

गोल्डफिश ही नहीं सभी तरह की मछलियों की उत्तम देखभाल बहुत जरूरी है। गोल्डफिश की देखभाल के लिए आपको सबसे पहले अपनी मछली के रहने के लिए कांच का एक्वेरियम लगाना होगा अगर आप एक्वेरियम नही लगाना चाहते तो किसी कांच के बड़े बाउल में भी मछली को रख सकते है। एक्वेरियम में सभी प्राकृतिक चीजों को भी लगाना चाहिए जो समुद्र में पाई जाती है। इन सभी प्राकृतिक चीजों के लिए आप अपने आसपास के फिश शॉप पर जा सकते हैं।

Goldfish के लिए एक्वेरियम का चुनाव

हमारा सुझाव है कि एक्वेरियम या बाउल, आप जो भी चुनें, ये जरूर धयान रखें कि वह जितना बड़े साइज का होगा उतना ही आपकी मछली ज्यादा समय तक जीवित रहेगी। मछलियों का साइज़ भी एक्वेरियम के साइज़ पर निर्भर करेगा।

क्या हो गोल्डफिश का साईज़

छोटे इंडोर एक्वेरियम में गोल्डफिश का साईज़ 1 से 2 इंच का होता है अगर आप थोड़ा बड़ा एक्वेरियम लगाते है तो मछली का साईज़ 6 इंच तक बढ़ सकता है। आउटडोर पॉन्ड्स (Outdoor Pond) में रहने वाली गोल्डफिश का साईज़ 14 इंच तक होता है।

कैसे करें एक्वेरियम की सजावट

एक्वेरियम को सुंदर और आकर्षक बनाने के लिए आप अपने एक्वेरियम को अपने हिसाब से आर्टिफिशियल प्लांट्स वगैरह लगा कर सजा सकते हैं। आर्टिफिशियल प्लांट्स या प्राकृतिक चीजों से गोल्डफिश को बिल्कुल समुद्र के जैसा वातावरण मिलेगा जिससे मछली एक्वेरियम में सहज रूप से रह सकेंगी।

एक्वेरियम की साफ सफाई पर ध्यान दें

गोल्डफिश को ज्यादा समय तक जीवित रखने के लिए आपको एक्वेरियम की, कम से कम 1 हफ्ते या दस दिन में सफाई करनी चाहिए। साफ सफाई करते हुए आपको कुछ चीजों पर ध्यान देना होगा जैसे की पानी की सफाई करते समय आपको सारा पानी नहीं बदलना चाहिए।

यदि आप हफ्ते में एक बार मछली के टैंक की सफाई करते है तो आपको टैंक का सिर्फ 10 या 15 प्रतिशत पानी ही बदलना चाहिए और अगर आप टैंक की साफ सफाई 15 या 20 दिन में करते है तो आपको केवल 30 से 50 प्रतिशत पानी बदलना होगा।

Goldfish के लिए खाने की मात्रा

इसके साथ आपको आपकी गोल्डफिश के खाने का भी पूरा खयाल रखना होगा। मछली के खाने के लिए आप किसी भी पालतू जानवरों की शॉप पर जा कर गोल्डफिश के लिए फिश फूड खरीद सकते है और दुकानदार से सलाह भी ले सकते है कि आप अपनी मछली को कब और कितना खाना दे सकते है। गोल्डफिश को आप एक निश्चित मात्रा में ही खाना दें। अधिक मात्रा में खाना देने से गोल्डफिश बीमार पड़ सकती है या उसकी मृत्यु भी हो सकती हैं।

कैसे करें गोल्डफिश का उपचार

कोई भी मछली पालने के लिए आपको उसका पूरा ध्यान रखना होगा। आप मछली के व्यवहार को समझने की भी कोशिश करें। अगर आपको मछली का व्यवहार ज़रा सा भी अलग लगे तो आप तुरंत समझ सकते है की मछली बीमार है और उसका उपचार भी कराऐं। यदि आपको लगता है की आपकी गोल्डफिश या अन्य मछलियां बीमार है तो आप उन्हें तुरंत किसी Aquaculture Veterinarian को दिखा कर उनका उपचार कराऐं।

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

7. गोल्डफिश के प्रकार (Types of Goldfish)

वैसे तो गोल्डफिश के कई प्रकार और जातियां हैं लेकिन हम आपको बताने जा रहे हैं टॉप 20 गोल्डफिश की प्रजातियां जो आम लोगों में सबसे ज्यादा प्र​चलित हैं।

आम गोल्डफिश (Common Goldfish)

common goldfish, गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

कॉमन गोल्डफिश सुनहरी मछली की आम प्रजाति है जिसका अपने पूर्वजों (Prussian carp) के रंग और आकार के आधार पर कोई अंतर नहीं है। कॉमन गोल्डफिश पालतु जंगली कार्प का ही एक रूप है। फैंसी गोल्डफिश की अधिकांश किस्में इसी साधारण नस्ल से आई हैं।

शुबुकिंन गोल्डफिश (Shubunkins Goldfish)

shubunkin goldfish, गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

शुबुकिंन गोल्डफिश दिखने में कॉमन गोल्डफिश और धूमकेतु गोल्डफिश की तरह ही हाती है। शुबुकिंन गोल्डफिश को सबसे पहले जापान में क्रॉसब्रीडिंग के द्वारा पैदा किया गया था। क्रॉसब्रीडिंग के लिए कैलिको टेलिस्कोप आई गोल्डफिश (डेमेकिन्स), कॉमेट गोल्डफिश और कॉमन गोल्डफिश को इस्तेमाल किया गया था।

कॉमेट गोल्डफिश (Comet Goldfish)

comet goldfish, गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

कॉमेट या धूमकेतु-पूंछ वाली गोल्डफिश अमेरिका में डेवलप की गई एक पूंछ वाली सुनहरी मछली है। यह कॉमन गोल्डफिश के ही समान है लेकिन ये थोड़ी छोटी और पतली होती है और मुख्य रूप से इसकी लंबी गहरी कांटेदार पूंछ कॉमन गोल्डफिश से अलग है। कॉमेट गोल्डफिश कई तरह के रंगों में उपलब्ध है।

रैंचू गोल्डफिश (Ranchu Goldfish)

ranchu goldfish, goldfish ka scientific naam kya hai

रैंचू जापान की एक हुड वाली किस्म है। इसे जापान में “King of Goldfish” कहा जाता है। रैंचू को ऐतिहासिक रूप से मारुको या कोरियाई गोल्डफिश के रूप में भी जाना जाता है। हालांकि, मारुको आमतौर पर अंडाकार मछली के रूप में जाना जाता है। चीनी लायनहेड नमूनों के द्वारा इसे जापान में क्रॉसब्रीड कराया गया था।

रयुकिन गोल्डफिश (Ryukin Goldfish)

ryukin goldfish, goldfish ka scientific naam kya hai

रयुकिन, नुकीले सिर वाली, गोल्डफिश की एक कठोर और आकर्षक किस्म है और सिर के पीछे पीठ पर एक बड़ा कूबड़ होता है। यह लंबी-पंख वाली या छोटी-पंख वाली या तो ट्रिपल या चौगुनी पूंछ के साथ हो सकती है।

टेलीस्कोप गोल्डफिश (Telescope Goldfish)

टेलीस्कोप गोल्डफिश को सबसे पहले चीन में सन 1700 में डेवलप किया गया था। टेलीस्कोप अपनी बढ़ी हुई आंखों को छोड़कर, डेमकिन रयुकिन और फैंटेल की तरह ही दिखाई देती है। इसका शरीर गहरा और पंख लंबे होते हैं। इसमें कुछ पंख छिपे हुए, कुछ चौड़े और कुछ छोटे होते हैं।

कैलिको गोल्डफिश (Calico Goldfish)

Calico goldfish

कैलिको गोल्डफिश का नाम इस तरह आया क्योंकि जब इसे पहली बार डेवलप किया गया तो इस पर कई रंगों के धब्बेदार कैलिको पैटर्न थे। कैलिको गोल्डफिश पर अक्सर लाल, पीले, भूरे और काले रंग के धब्बे होते हैं और नीले रंग की पृष्ठभूमि पर गहरे रंग के धब्बे होते हैं। यह रंग आमतौर पर पंखों पर फैले होते हैं।

बबल आई गोल्डफिश (Bubble Eye Goldfish)

बबल आई फैंसी गोल्डफिश की एक छोटी किस्म है इसकी ऊपर की ओर इशारा करने वाली आंखें होती हैं जिसमें तरल पदार्थ से भरी दो बड़ी थैलियां होती हैं। गोल्डफिश की इस किस्म की एक साफ पीठ और आंखें बुलबुले की तरह होती हैं जो मछली के रंग से मेल खाती हैं।

फैंटेल गोल्डफिश (Fantail Goldfish)

fan tailed goldfish

फैंटेल गोल्डफिश का अंडे के आकार का शरीर होता है, इसकी पीठ पर उंचे पंख और एक लंबी चौगुनी पूंछ का पंख भी होता है। इसके कंधे पर किसी तरह का कूबड़ नहीं होता है। यह रयुकिन के समान है और अधिकतर पश्चिमी देशों में पाई जाती है।

लॉयनहैड गोल्डफिश (Lionhead Goldfish)

lionhead goldfish

लायनहेड्स के जबरदस्त हुड या हेडग्रोथ और मोटे गाल उन्हें कुत्ते के पिल्लों के समान चेहरे का रूप देते हैं। इसका “वेन” (हेडग्रोथ का चीनी शब्द) पूरी तरह से मछली के सिर, गाल और गिल प्लेट को कवर करता है। इसके अलावा, लायनहेड्स आकार में छोटी लेकिन गहरे शरीर की होती हैं, और इसकी पीठ पर पंख नहीं होते। इसकी धनुषाकार पीठ होती है।

बटरफ्लाई टेलिस्कोप गोल्डफिश (Butterfly Telescope Goldfish)

butterfly goldfish

बटरफ्लाई टेलिस्कोप गोल्डफिश, टेलिस्कोप फिश का ही एक वेरिंयट है। उपर से देखने पर इसके पंख तितली की तरह दिखाई देते हैं। इसे हाल के वर्षों में डेवलप किया गया है। इस पर काले, नीले और संतरी रंग के धब्बे दिखाई देते हैं।

वीलटेल गोल्डफिश (Veiltail Goldfish)

veiltail goldfish

वीलटेल गोल्डफिश एक बड़ी पूंछ होती है लगभग मछली से दुगनी। इसकी पीठ धनुषाकार होती है और उस पर भी एक बड़ा पंख रहता है। इसके शरीर का आकार लगभग रयुकिन की ही तरह दिखाई देता है और इसका रंग सुनहरा होता है।

ऐग्ग-फिश गोल्डफिश (Egg-gish Goldfish)

egg-fish goldfish

ऐग्ग-फिश, गोल्डफिश की फैंसी किस्म है जिसके पंख नहीं होते ये लगभग अंडे के आकार की होती है। ये बिल्कुल रांचु गोल्डफिश की तरह दिखाई देती है। ये आकार में लंबी होती है लेकिन इसका सिर रांचु की तरह नहीं होता।

ओरांडा गोल्डफिश (Oranda Goldfish)

oranda goldfish

ओरांडा के सिर पर एक बड़ हुड होता है। इस बने बड़े हुड को ओरांडा का ताज भी कहा जाता है। इसकी एक बड़ी पूंछ होती है और पीठ पर भी एक बड़ा पंख होता है। इसका पेट अंडे के आकार का दिखाई देता है।

पॉम्पॉम गोल्डफिश (Pompom Goldfish)

pompoms goldfish

पॉम्पॉम गोल्डफिश बिल्कुल अलग दिखने वाली फिश है इसका रंग बैंगनी होता है और नाक की दोनों और ढीले मांस की गांठ होती है। इसके शरीर का आकार ओरांडा और लॉयन हैड की तरह ही होता है।

सेलेशियल आई गोल्डफिश (Celestial Eye Goldfish)

celestial-eye goldfish

सेलेशियल आई गोल्डफिश की आंखें बिल्कुल बबल आई गोल्डफिश की तरह ही उपर की तरफ देखती हुई होती हैं और दोनों आखें बबल की तरह ही फूली होती हैं। सुनहरे संतरी रंग की इस मछली में दो पूंछ रहती हैं।

उम्मीद करते हैं हमारे इस पोस्ट Goldfish ka Scientific Naam Kya Hai में आपको गोल्डफिश के बारे सम्पूर्ण जानकारी मिल गई होगी और यदि आपको हमारा ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो वो कमेंट सेक्शन में अवश्य बताऐं।

Source : wikipedia

Leave A Reply

Your email address will not be published.