New Zealand vs India: 208 रनों की पारी खेलकर Shubman Gill ने मैच के बाद बताई ये सच्चाई

0

नई दिल्‍ली, भारत और न्यूज़ीलैंड (New Zealand vs India) के बीच खेले गये पहले एकदिवसीय मैच में शुभमन गिल (Shubman Gill) हीरो बने जिन्होने 208 रन की पारी खेलकर अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ वनडे स्कोर बनाया। शुभमन गिल ने सबसे कम उम्र में 200 रन की पारी खेल कर वनडे इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया। मैच के बाद अपनी पारी को लेकर शुभमन ने खुलासा किया कि वे क्रीज़ पर रहते हुए क्या सोच रहे थे। गिल ने कहा कि वे 200 रन के बारे में बिल्कुल भी नहीं सोच रहे थे।

139.60 की औसत से 208 रन की पारी (New Zealand vs India)

Sponsored Ad

शुभमन गिल की पारी की खास बात ये थी कि उन्होने न केवल 208 रन बनाये बल्कि इस पारी का औसत भी 139.60 रहा जो वनडे के लिहाज से काफी अच्छा भी है। गिल ने 149 गेंदों का सामना किया जिसमें उन्होने 19 चौके और 9 छक्के जड़े। गिल की 208 रन की पारी की बदौलत भारत ने न्यूजीलैंड को जीत के लिए 350 रनों का विशाल लक्ष्य दिया।

मैच के बाद ये कहा गिल ने

मैच समाप्ति के बाद 23 वर्षीय गिल ने कहा कि उनकी नज़र 200 रन पर नहीं थी। उन्होने 47वें ओवर तक भी ये नहीं सोचा था उन्हे 200 रनों आंकड़ा पार करना चाहिए। गिल ने कहा कि, “मैं ग्राउंड पर खुलकर खेलना चाहता था। मैं गेंदबाजों पर हावी होना चाहता था, परन्तु जब लगातार विकेट जा रहे हो तो आप ऐसा नहीं कर पाते हैं। मैने आखिर में खुलकर अपने स्‍ट्रोक्‍स खेले। जब बॉलर शीर्ष पर हो तो आपको उसे दबाव में लाना पड़ता है, नहीं तो गेंदबाज़ डॉट बॉल डालता है। मैंने गेंदबाजों को दबाव में लाने का प्रयास किया।”

शुभमन ने कहा कि उन्होने 200 रन की पारी को ले​कर नहीं सोचा था, जब 46वें ओवर के बाद कुछ बड़े शॉट (6, 4) लगे तो लगा कि मैं डबल सेंचुरी कर सकता हूं। जब आप, जो शॉट खेलना चाहते हैं और गेंद वहीं जाती है तो अच्छा लगता है और शॉट खेलने का आत्म विश्वास बढ़ता है। मुझे इस पारी का अहसास हुआ और सपने ऐसे ही बनते हैं।

Sponsored Ad

Sponsored Ad

माइकल ब्रेसवेल ने दिखाया दम

भारत ने न्यूज़ीलैंड को जीत (New Zealand vs India) के लिए 350 रनों का विशाल लक्ष्य दिया। फिन एलेन को छोड़ न्यूजीलैंड की शुरूआती बल्लेबाज़ी कुछ खास कमाल नहीं दिखा सकी। एक समय पर 131 के टीम स्कोर पर न्यूज़ीलैंड के 6 विकेट पवेलियन लौट चुके थे लेकिन माइकल ब्रेसवेल ने हार नहीं मानी और ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी करते हुए दर्शकों का मन जीत लिया। उन्होने 78 गेंदों का सामना करते हुए 179.49 की औसत से 140 रन ठोक दिये। ब्रेसवेल की इस शानदार पारी में उन्होने 12 चौके और 10 छक्के जड़ दिये।

एक समय तक ऐसा लग रहा था कि माइकल ब्रेसवेल के चलते न्यूज़ीलैंड इस मैच को जीत लेगा लेकिन शार्दूल ठाकुर की एक गेंद ब्रेसवेल के पेड पर जा लगी और वे एल.बी.डब्ल्यू (LBW) हो गऐ। बाद के बल्लेबाज़ एक के बाद एक आउट होते चले गऐ और परी टीम 50 ओवर से पहले ही 337 रनों पर सिमट गई और इस तरह भारत ने पहला रोमांचक एकदिवसीय मैच 12 रनों से जीत कर (New Zealand vs India सीरीज़ में 1-0 की बढ़त बना ली।

Leave A Reply

Your email address will not be published.