समलैंगिकों के समर्थन में रैली की तैयारी के दौरान गोलीबारी – 2 की मौत, दर्जनों घायल

0

ओस्लो, शनिवार की सुबह नॉर्वे की राजधानी ओस्लो में समलैंगिकों के समर्थन में रैली की तैयारी के दौरान हुई गोलीबारी (Shooting in Norway) में 2 लोगों की मौत हो गई और 12 से अधिक घायल हो गऐ। नॉर्वे की स्थानीय पुलिस ने इस खबर की जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, ये गोलीबारी शनिवार तड़के नॉर्वे की राजधानी के डाउनटाउन क्षेत्र में एक बार (Bar) के बाहर हुई।

एक संदिग्ध गिरफ्तार

Sponsored Ad

तोरे बारस्तैद (पुलिस प्रवक्ता, नॉर्वे) के अनुसार पुलिस ने एक संदिग्ध व्यक्ति को इस मामले में गिरफ्तार किया है और जांच जारी है लेकिन इस घटना की असली वजह का पता नहीं चला है। तोरे बारस्तैद के अनुसार, इस गोलीबारी की घटना का संबध, समलैंगिकों के समर्थन में ओस्लो में होने वाली रैली से था या नहीं ये स्पष्ट नहीं हुआ है।

पुलिस प्रवक्ता ने प्रेस से बात के दौरन कहा, “पुलिस शनिवार को निकाली जाने वाली इस रैली के आयोजकों के संपर्क में है। इस बात का आकलन किया जा रहा है कि समलैंगिकों के समर्थन में आयोजित होने वाली रैली की सुरक्षा के लिए पुलिस को क्या उपाय करने चाहिए और क्या गोलीबारी की इस घटना का समलैंगिकों की रैली से कोई संबंध है या नहीं।”

8 लोग अस्पताल में भर्ती

तोरे बारस्तैद ने बताया कि घटना में कई लोग घायल हुए हैं जिनमें से 14 का इलाज हॉस्पिटल में चल रहा है जिसमें से 8 को भर्ती किया गया है। नॉर्वे के सरकारी कंपनी NRK के एक पत्रकार ओलाव रोनेबर्ग ने बताया कि उन्होने इस घटना (Shooting in Norway) को स्वंय अपनी आंखों से देखा है।

Sponsored Ad

Sponsored Ad

पत्रकार ओलाव रोनेबर्ग ने कहा, “मैंने देखा कि एक आदमी बैग के साथ वहां पहुंचता है। वह बैग में से हथियार निकालता है और गोलीबारी शुरू कर देता है। पहले मुझे लगा कि यह एक एयर गन है। तभी बगल के बार का शीशा टूट गया और मैं समझ गया कि मुझे छिपने के लिए भागना होगा।”

नॉर्वे के टीवी चैनल ने दिखाई खबर

नॉर्वे के एक न्यूज़ चैनल “टीवी-2” की फुटेज (Shooting in Norway) में घबराए लोगों को राजधानी की सड़कों पर भागते हुए देखा जा सकता है। वीडियों में पीछे से लगातार गोलियों की आवाज़ को भी सुना जा सकता है। रैली के आयोजक लगातार पुलिस के संपर्क में हैं।

आयोजक ने सोशल मीडिया पर बताया कि, “हम इस दुखद घटना से स्तब्ध और दुखी हैं। हम स्थिति पर करीबी नजर रख रहे हैं। हमारी संवेदनाएं पीड़ितों और उनके प्रियजनों के साथ हैं।”

2011 में हुई थी बड़ी घटना

आपकी जानकारी के लिए बता दें, 2011 में नॉर्वे में गोलीबारी की सबसे दुखद घटना हुई थी जब 69 लोगों को दक्षिणपंथी विचारधारा वालों ने मौत के घाट उतार दिया था। इसके अलावा 2019 में भी एक दक्षिणपंथी चरमपंथी ने अपनी सौतेली बहन की हत्या करने के बाद एक मस्जिद में गोलीबारी की घटना को अंजाम दिया था। इस घटना में किसी के हताहत होने से पहले ही व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.