प्रधानमंत्री ने सुवा में श्री सत्यसाईं संजीवनी चिल्ड्रेन्स हार्ट अस्पताल का उद्घाटन किया

0

नई दिल्ली/सुवा, 27 अप्रैल। विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिजी की राजधानी सुवा में श्री सत्यसाईं संजीवनी चिल्ड्रेन्स हार्ट अस्पताल (PM Inaugurate Hospital in Fiji) का उद्घाटन किया। इस अस्पताल में बच्चों में हृदय रोगों का उपचार किया जाएगा। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने कहा कि यह अस्पताल ना केवल फिजी बल्कि प्रशांत महासागरीय क्षेत्र में सेवा का एक मजबूत अधिष्ठान बनेगा।

PM Inaugurate Hospital in Fiji

Sponsored Ad

श्री नरेन्द्र मोदी ने उद्घाटन के अवसर पर सुवा में फिजी के प्रधानमंत्री फ्रेंक बेनीमरामा को उनके जन्मदिन की भी शुभकामनाएं दीं। फिजी के सुवा में यह सुपर स्पेशियलटी अस्पताल, आंध्र प्रदेश के पुट्टपर्ती स्थित, साईं प्रेम फाउंडेशन के द्वारा बनाया गया है।

इस कार्यक्रम के दौरा प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सुवा में श्री सत्य साई संजीवनी चिल्ड्रेन्स हार्ट हॉस्पिटल हमारे आपके पारस्परिक रिश्तों और प्रेम का एक और प्रतीक तथा भारत और फिजी की साझा यात्रा का एक और अध्याय है। उन्होंने कहा, “ये चिल्ड्रेन्स हार्ट हॉस्पिटल न केवल फिजी में, बल्कि पूरे दक्षिणी प्रशांत क्षेत्र में पहला बाल हृदयरोग अस्पताल है। एक ऐसे क्षेत्र के लिए, जहां हृदय से जुड़ी बीमारियां बड़ी चुनौती हों, ये अस्पताल हजारों बच्चों को नया जीवन देने का माध्यम बनेगा। यहाँ हर बच्चे को न केवल विश्व स्तरीय उपचार मिलेगा, बल्कि सभी सर्जरीज़ निशुल्क भी होंगी। मैं इसके लिए फ़िजी सरकार, साईं प्रेम फ़ाउंडेशन फ़िजी और भारत के श्री सत्य साई संजीवनी चिल्ड्रेन्स हार्ट हॉस्पिटल (PM Inaugurate Hospital in Fiji) की बहुत-बहुत सराहना करता हूँ।

श्री सत्य साई बाबा को किया नमन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस अवसर पर ब्रह्मलीन श्री सत्य साई बाबा को नमन किया और कहा कि मानवता की सेवा के लिए उनके द्वारा बोया गया बीज आज वटवृक्ष के रूप में लोगों की सेवा कर रहा है। सत्य साईं बाबा ने अध्यात्म को कर्मकांड से मुक्त करके जनकल्याण से जोड़ने का अदभुत काम किया था। शिक्षा के क्षेत्र में उनके कार्य, स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य, गरीब-पीड़ित-वंचित के लिए सेवाकार्य, आज भी हम सभी को प्रेरणा देते हैं। दो दशक पहले जब गुजरात में भूकंप से तबाही मची थी, उस समय बाबा के अनुनायियों द्वारा जिस प्रकार पीड़ितों की सेवा की गई, वो गुजरात के लोग कभी भी भूल नहीं सकते।?

Sponsored Ad

Sponsored Ad

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे यहां कहावत है, ‘परोपकाराय सतां विभूतयः’। अर्थात्, परोपकार ही सज्जनों की संपत्ति होती है। मानव मात्र की सेवा, जीव मात्र का कल्याण, यही हमारे संसाधनों का एक मात्र उद्देश्य है। इन्हीं मूल्यों पर भारत और फिजी की साझी विरासत खड़ी हुई है। इन्हीं आदर्शों पर चलते हुये कोरोना महामारी जैसे कठिन समय में भी भारत ने अपने कर्तव्यों का पालन किया है।

कोविड काल में पड़ोसी देशों की मदद

‘वसुधैव कुटुंबकम्’ यानी, पूरे विश्व को अपना परिवार मानते हुये भारत ने दुनिया के 150 देशों को दवाएं भेजीं, जरूरी सामान भेजा। अपने करोड़ों नागरिकों की चिंता के साथ साथ भारत ने दुनिया के अन्य देशों के लोगों की भी चिंता की। हमने करीब-करीब 100 देशों को 10 करोड़ के आसपास वैक्सीन्स भी भेजी हैं। इस प्रयास में हमने फिजी को भी अपनी प्राथमिकता में रखा। खुशी की बात है कि फ़िजी के लिए पूरे भारत की उस अपनत्व भरी भावना को साई प्रेम फ़ाउंडेशन यहाँ आगे बढ़ा रहा है।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि दोनों देशों के मध्य में विशाल समुद्र जरूर है लेकिन हमारी संस्कृति ने हमें एक दूसरे से जोड़कर रखा है। हमारे रिश्ते आपसी सम्मान, सहयोग, और हमारे लोगों के मजबूत आपसी सम्बन्धों पर टिके हैं। भारत का ये सौभाग्य है कि हमें फिजी के सामाजिक-आर्थिक विकास में भूमिका निभाने, योगदान करने का अवसर मिलता रहा है।

बता दें बीते दशकों में भारत और फिजी के रिश्ते हर क्षेत्र में लगातार आगे बढ़े हैं और मजबूत हुये हैं। फिजी और प्रधानमंत्री मोदी के सहयोग से हमारे ये रिश्ते आने वाले समय में ओर भी मजबूत होंगे। उन्होंने कहा, “मुझे विश्वास है, ये हॉस्पिटल फिजी और इस पूरे क्षेत्र में सेवा का एक मजबूत अधिष्ठान बनेगा, और भारत-फ़िजी रिश्तों को नई ऊंचाई देगा।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.