सतीश कौल के आखिरी दिन गुमनामी भरे, वृद्धावस्था आश्रम में रहने को मजबूर

300 से ज्यादा हिन्दी और पंजाबी फिल्में करने वाले अभिनेता सतीश कौल के अ​न्तिम दिन बेहद ही तंगहाली में गुज़रे। वे लुधियाना में एक किराये के मकान में अपनी जिंदगी बिता रहे थे और आज शनिवार 10 अप्रैल को कोरोना के कारण उनका निधन हो गया। उनकी उम्र 72 साल की थी। सतीश कौल के आखिरी वक्त की दास्तान सुनकर आपके आंखों में आसू छलक जायेंगे। किसी समय का चमकता सितारा ऐसी गुरबत की जिदंगी के बाद दुनिया को अलविदा कहेगा ये किसी ने सोचा भी नहीं होगा।

पिछले तीन साल रहे किराये के घर में

अपने समय का चमकता सितारा सतीश कौल 3 साल तक किराये के मकान में रहे। उनके पास अपने ईलाज के लिए, दवाओं के लिए भी पैसे नहीं थे। आखिरी दिनों में एक नर्स सत्या उनके साथ थीं जो उनकी देखभाल करती थी। उन्हे डॉयबिटीज़ भी थी।

कुछ समय पहले ये भी खबर थी कि वे अपनी जिंदगी एक वृद्धावस्था आश्रम में बिता रहे हैं तभी उनकी एक करीबी दोस्त प्रीती सप्रू ने एक समाचार ऐजेंसी के इंटरव्यू में इस बात की पुष्टी भी की। इससे पहले सतीश कौल ने भी पीटीआई से बात करते हुए इस बात की पुष्टी की थी। उन्होने पीटीआई को बताया कि वे लुधियाणा में एक किराये के घर में रह रहे हैं और इससे पहले वे एक वृद्धावस्था आश्रम में रह रहे थे।

उन्होने ये भी बताया कि उनके पास राशन खरीदने के पैसे नहीं हैं और तो ओर वे बीमार भी रहते हैं उसके लिए दवाऐं और कुछ जरूरी समान के लिए भी कोई पैसा नहीं हैं।

काम के लिए की थी गुज़ारिश

उन्होने इंडस्ट्री के अपने कुछ दोस्तों से काम की भी गुज़ारिश की थी ताकि वे अपना बाकी का जीवन अच्छे से बिता सकें। सतीश कौल 2011 तक मुम्बई में थे। उन्होन अपना मुम्बई का फ्लैट अपने माता पिता के कैंसर के ईलाज के लिए बेच दिया था। इसके बाद उन्होने अपनी छोटी बहन की शादी की। उसके बाद में पंजाब चले आये। उन्हाने पंजाब में रहते हुए एक प्रोजेक्ट की शुरूआत भी की थी लेकिन वो प्रोजेक्ट सफल नहीं हुआ।

2015 में उनके कुल्हे की हड्डी में चोट आ गई और फ्रैक्चर हो गया​ जिसके कारण उन्हे ढाई साल बिस्तर पर रहना पड़ा। अपने अखिरी दिनों में सतीश कौल एक बार फिर अभिनय करना चाहते थे और गुरबर की जिंदगी से बाहर आना चाहते थे लेकिन ऐसा हो न सका।

उनकी दोस्त प्रीती ने बताया कि वे पांच महीने पहले सतीश जी से मिली हैं और उन्होने सतीश जी को कहा था कि वे इंडियन मोशन पिक्चर्स को खत लिखें। उसके बाद उन्हे कुछ मदद मिल रही है। प्रीती ने लोगों से भी अपील की थी कि वे सतीश कौल की मदद करें।

परिवार ने सतीश कौल को पहले ही छोड़ दिया था

उनकी दोस्त प्रीती के अनुसार उनके परिवार ने (बीवी-बच्चों) ने उन्हे पहले ही छोड़ दिया था ऐसा नहीं है कि ​बदहाली कि बाद परिवार ने उनसे मुहं मोड़ा। आपको बता दें सतीश कौल की शादी के 1 साल बाद ही उनका पत्नी से तलाक हो गया और उनकी पत्नी ने किसी और से दूसरी शादी कर ली और अपने बच्चे को लेकर दक्षिण अफ्रीका चली गई।

उनकी एक बड़ी फैन सत्या देवी पिछले 7 सालों से उनका ख्याल रख रहीं थी। 69 साल की सत्या के 4 बच्चे हैं। कुछ समय तक सतीश कौल और सत्या देवी के रिश्ते को लेकर भी कुछ लोगों ने आपत्ति जताई थी लेकिन सत्या ने उनका साथ नहीं छोड़ा।

300 से ज्यादा फिल्मों में किया काम

सतीश कौल ने 300 से भी ज्यादा फल्मों में काम किया और उन्होने दूरर्शन पर प्रसारित होने वाले कुछ मशहूर धारावाहिकों में भी काम किया जिसमें महाभारत, विक्रम और बेताल, सर्कस काफी चर्चित रहे। उन्होने बॉलीवुड के तमाम दिग्गजों के साथ ​काम किया। उन्होने दिलीप कुमार, देव आनंन्द, विनोद खन्ना के साथ काम किया लेकिन हिन्दी से ज्यादा शोहरत उन्हे पंजाबी फिल्मों में मिली। कई पंजाबी फिल्मों में उन्होने बतौर हीरो भी काम किया।

life of satish kaulsatish kaulsatish kaul diessatish kaul dies of corona
Comments (0)
Add Comment